पुरुष में शुक्राणु कम होने के क्या कारण होते हैं और शुक्राणु बढ़ाने के उपाय

loading...
Spread the Love and Tips

शुक्राणु कम होने के कारण और उपाय :

किसी भी पुरुष के लिये ये खबर किसी बुरे सपने से कम नही होगी की उसमें शुक्राणु कम है और वो पिता नही बन सकता है। हर कोई चाहता है कि उसकी अपनी संतान हो और उसका परिवार आगे बढ़े। पर कम शुक्राणु की वजह से कई पुरुष पिता नही बन पाते हैं। इसके अलावा शुक्राणु कम होने से और भी कई तरह की दिक्कतें हो सकती है जैसे नपुंसकता, सेक्स करने की इक्षा में कमी, शारीरिक कमजोरी, शीघ्रपतन आदि।

पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी होना (low sperm count), उनकी गति में कमी, टेस्टोस्टेरौन हार्मोन की कमी होना- ये तीन प्रमुख कारण है जिससे कोई भी पुरुष पिता बनने में अक्षम हो जाता है। शुक्राणु कम होने से फर्टिलाइजेशन (निशेचन) की सम्भावना बहुत कम हो जाती है। यदि उनकी गति धीमी है तो शुक्राणु तेजी से तैर कर एग (अंडाणु) तक नही पहुँच पायेगा और उसे निशेचित नही कर पायेगा। फलस्वरूप स्त्री गर्भवती नही हो पायेगी। अगर पुरुष में टेस्टोस्टेरौन हार्मोन की कमी है तो शुक्राणु की संख्या कम हो जाती है। सामान्यतौर पर एक पुरुष में पिता बनने के लिए उसमे 15 मिलियन शुक्राणु की कोशिकाओं का होना जरूरी होता है। जितना जादा हार्मोन होगा उतना ही अधिक वीर्य की गुणवत्ता बढ़ेगी और शुक्राणु की संख्या उतनी अधिक होगी। आज के लेख में हम इसी विषय पर चर्चा करेंगे। सबसे पहले जानते है की पुरषों में शुक्राणु कम होने के क्या कारण होते हैं-

Low Sperm

  • मोटापा- अधिक मोटापे के कारण टेस्टोस्टेरौन हार्मोंस का स्तर पुरुषों में गिर जाता है जिसके फलस्वरूप शुक्राणुओं की संख्या काफी कम हो जाती है। व्यायाम न करना भी इसकी प्रमुख वजह हो सकती है।
  • अधिक तापमान की जगह काम करना- कई बार पुरुषों को फैक्ट्री में अधिक तापमान वाली जगह काम करना पड़ता है जिससे उनमे शुक्राणु कम हो जाते है। अंडकोष का तापमान बढ़ जाने से नये शुक्राणु बनने की क्रिया में बाधा उत्पन्न होती है। इसके अलावा लैपटॉप को गोद में रखकर अधिक समय तक काम नही करना चाहिये। सौना बाथ, हॉट बाथ टब, गर्म पानी में अधिक देर तक नहाने से भी ये समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • आनुवंशिकी- परिवार में यदि माता-पिता, दादा- दादी कम शुक्राणु की समस्या से जूझ रहे थे तो सम्भव है की उनके बच्चो और बच्चों के बच्चों में ये समस्या उत्पन्न हो जाये। आनुवंशिकी का प्रभाव सदैव ही बना रहता है।
  • शराब, तम्बाकू आदि नशीले पदार्थों का सेवन करना- नशीले पदार्थों का सेवन नही करना चाहिये। सिगरेट का सेवन करने से पुरुषों के वीर्य में कैडमियम का स्तर बढ़ जाता है जो शुक्राणुओं की संख्या को कम कर देता है। कैडमियम DNA को नुकसान पहुँचाता है। इससे भी शुक्राणु कम हो जाते है। इसके अलावा ड्रग्स (मारिजुआना) व दूसरे नशीले पदार्थों से भी शुक्राणु कम हो जाते है।
  • गलत आहार लेना- आज के समय में हम स्वाद लोलुप हो गये है। रोज रोज जंक फ़ूड खाना जिसमे किसी प्रकार का कोई पौष्टिक तत्व नही होता है। इससे पुरूषों में शुक्राणु निर्माण में बाधा उत्पन्न होती है।
  • तनाव- अधिक तनाव बहुत सारी बीमारियों को जन्म देता है। तनाव में शरीर में खून बहुत तेजी से दौड़ता है जिससे स्ट्रेस हार्मोंस बढ़ जाते है। इससे भी पुरुषों में शुक्राणु की मात्रा कम हो जाती है। नये शुक्राणु बनने की गति धीमी हो जाती है।
  • दवाओं का सेवन- कुछ दवायें शुक्राणु निर्माण में बाधा पहुँचाती है। Flutamide, ketoconazole, biculutamide, cimitidine, cyproterone आदि दवाइयाँ शुक्राणु निर्माण को प्रभावित करती है। स्टेरॉयड का अधिक इस्तेमाल भी इसके लिए हानिकारक होता है।
  • अन्य कारण- ऐसे अनेक कारण है जिससे पुरुषों में शुक्राणु कम हो जाते है जैसे- पैदाइश के समय प्रजनन सम्बन्धी विकार, अंडकोष पर चोट लगना, क्रोमोसोमल डिफेक्ट, खून की कमी, वैरीकोसील Varicocele, नसबंदी, परिवार में प्रजनन सम्बन्धी विकार का इतिहास होना।
  • वैरीकोसील (Varicocele) – वृषण में नसों के बढ़ जाने (enlargement of the veins) को वैरीकोसील कहते है। नसों के बढ़ जाने से शुक्राणु की गुणवत्ता और मात्रा प्रभावित होती है। वृषण में दर्द या सूजन आ जाना, अंडकोष का भिन्न भिन्न प्रकार का होना आदि कारणों से पुरुषों में शुक्राणु कम हो सकते है। ऐसी हालत में डॉक्टर से तुरंत मिलना चाहिये। प्रजनन समस्याओं में 40% पुरुषों में ये स्तिथि पायी जाती है।
  • बढ़ती उम्र- पुरुषों में 40 साल के बाद फर्टिलिटी कम होने लग जाती है, जबकि महिलाओं में 35 साल के बाद फर्टिलिटी कम होने लग जाती है।
इन्हें भी पढ़ें :   लड़कियों / औरतों में सेक्स पावर जगाने के तरीके

Sperm

शुक्राणु बढ़ाने के उपाय—

  • सही, स्वास्थ्यवर्धक आहार लें- शुक्राणु की समस्या से बचने के लिये आपको अपने खाने में प्रोटीन, विटामिन सी, विटामिन ई, जिंक, बीटाकैरोटीन, ओमेगा 3, फाइबर, ताज़ी हरी पत्तेदार सब्जियाँ, मांस, मछली, अंडे का सेवन करना चाहिये। ध्यान रखें की जादा सुगर (sugar), सेचुरेटेड फैट्स (saturated fats) वाली चीज न खाये। इससे वीर्य में शुक्राणु बनना कम हो जाते है। जंक फ़ूड का इस्तेमाल न करें। सूखे मेवे- जैसे काजू, पिस्ता, बादाम का सेवन करे। सोयाबीन को अपने आहार में शामिल करें।
  • प्रतिदिन व्यायाम करें– आजकल की तेज रफ्तार जिन्दगी में कम लोग ही व्यायाम करते है। जब तक उन्हें कोई समस्या नही होती वो नही करते है। नियमित व्यायाम करने से टेस्टोस्टेरौन हार्मोन का स्तर बढ़ता है जो शुक्राणुओं को बनाने में मदद करता है। रोज कम से कम 1 घंटा व्यायाम तो अवश्य करना चाहिये।
  • सेक्स की मात्रा बढ़ाये- जिन पुरुषों में शुक्राणु कम होते है उनको ओव्यूलेशन के समय हर दूसरे दिन सेक्स करना चाहिये। इससे स्त्री के गर्भवती होने की सम्भावना बढ़ जाती है। ओव्यूलेशन मासिक धर्म च्रक के बीच में होता है।
  • स्वच्छंद सम्भोग से बचे- एक या अधिक साथी से सम्भोग करने पर यौन संक्रमण होने का खतरा रहता है। संक्रमण से शुक्राणु मरने लग जाते है। ऐसे में पुरुष इनफर्टिलिटी की समस्या उत्पन्न हो जाती है।
  • शराब का सेवन न करे- शराब व अन्य नशीले पदार्थो का सेवन सीमित मात्रा में करे। हो सके तो बिलकुल भी शराब न लें। धूम्रपान न करे।
  • तनाव से बचे- आपको खुद को तनाव (stress) से बचना चाहिये। रोज योगा, (मैडीटेशन), तैराकी, साईकिल चलाने, दौड़ने, सुबह उठकर व्यायाम करके आप अपने तनाव को खत्म कर सकतें है। खेल खेलें। नींद पूरी लें, देर तक जागे नही, जल्दी सोयें और जल्दी उठें। आपको नियमित जीवनशैली जीनी चाहिये। हर चीज का एक समय बना लें।
  • जल्दी जल्दी वीर्यपात न करें- सम्भोग की क्रिया के समय अगर आप जल्दी जल्दी वीर्यपात कर देंगे तो वीर्य की गुणवत्ता कम हो जाती है। वीर्य पतला हो जाता है। अच्छा होगा की आप दूसरे दिन प्रयास करे।
  • दवाओं के सेवन से पहले उनका प्रभाव जान लें- जैसा हमने आपको उपर बताया की अनेक दवायें पुरुषों में शुक्राणु बनने की क्रिया को कम कर देती है या रुकावट पैदा करती है। इसलिए कोई भी दवा लेने से पहले आप पूरी जानकारी ले लें।
  • विषाक्त रसायनों से बचें- आप अगर किसी फैक्ट्री में काम करते है तो आपको- मरकरी, लेड व दूसरे भारी धातुओं, कीटनाशको और दूसरे हानिकारक रसायनों से बचना चाहिये। हमेशा चेहरे पर मास्क, और हाथ में दस्तानो का प्रयोग करे। आँखों में बचाने के लिए चश्मा लगायें।
  • टाईट कपड़े और टाईट अंडरवियर न पहने– अंडकोष आपके शरीर का नाजुक अंग होता है। इसलिए कोशिश करें की ढीले व आरामदायक कपड़े पहने।
  • डॉक्टर की सलाह लें-  यदि आपके विवाह को 1 या 2 साल हो गये और पुरुष अपनी स्त्री के साथ निरंतर प्रयास करने पर भी गर्भधारण में असफल रहतें है तो आपको डॉक्टर से तुरंत मिलना चाहिये।
इन्हें भी पढ़ें :   सेक्स के समय कौन सबसे ज्यादा उत्तेजित होता है? पुरुष या महिला

निष्कर्ष: आज का हमारा लेख आपको कैसा लगा, जरुर बतायें। पुरुषों में शुक्राणु कम होना एक गम्भीर समस्या है। इसलिए जो लोग इससे जूझ रहे है तो हमारा लेख जरुर पढ़ें। हमारे उपाय निश्चित रूप से आपकी मदद करेंगे।

शुक्राणु की कमी के लक्षण, शुक्राणु कमी के उपाय, शुक्राणु बढ़ने के घरेलु उपाय, वीर्य कैसे बढ़ाएं, वीर्य बढ़ने के टिप्स, Virya Badhane Ke Gharelu Upay Hindi Me, sperm badhane ke upay in hindi

पुरुष में शुक्राणु कम होने के क्या कारण होते हैं और शुक्राणु बढ़ाने के उपाय
1 (20%) 1 vote
Loading...

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!