वजाइनल इन्फेक्शन के कारण और उपाय

loading...
Spread the Love and Tips

वजाइनल इन्फेक्शन के कारण और उपाय, योनि में इन्फेक्शन के कारण, योनि संक्रमण से कैसे बचें, प्राइवेट पार्ट में इन्फेक्शन के कारण और उपाय, Cause of Vagina infection, Tips to prevent from Vaginal infection

ज्यादातर महिलाएं अपनी समस्याओं के बारे में खुलकर बात नहीं करती है, खासकर समस्या जब प्राइवेट पार्ट से जुडी हो। लेकिन महिलाएं प्राइवेट पार्ट से जुडी बहुत सी परेशानियों से जूझती है। जैसे की यीस्ट इन्फेक्शन, प्राइवेट पार्ट में खुजली, जलन, वजाइनल इन्फेक्शन आदि। और वजाइनल इन्फेक्शन होने के कारण महिला को प्राइवेट पार्ट के बाहरी हिस्से में सूजन, दर्द, पेशाब में गंध, सेक्स के दौरान परेशानी, सफ़ेद पानी का ज्यादा आना आदि परेशानियां हो सकती है। प्रेगनेंसी के दौरान वजाइना इन्फेक्शन की समस्या बहुत सी महिलाओं में देखने को मिलती है। तो आइये आज हम आपको विस्तार से बताते हैं की वजाइनल इन्फेक्शन होने के क्या क्या कारण हो सकते हैं, और आप किस तरह इस समस्या से निजात पा सकती हैं।

वजाइनल इन्फेक्शन के कारण

महिला के प्राइवेट पार्ट में होने वाले इन्फेक्शन का कारण महिला के द्वारा की जाने वाली गलतियां या उनका गलत खान पान भी हो सकता है। तो आइये अब जानते हैं की किन कारणों की वजह से वजाइनल इन्फेक्शन होता है।

साफ़ सफाई

जो महिलाएं अपने प्राइवेट पार्ट की साफ़ सफाई का ध्यान नहीं रखती हैं, जैसे की रोजाना अंडरवियर न बदलना, पेशाब करने के बाद प्राइवेट पार्ट को साफ न करना, अनचाहे बालों को न काटना आदि। तो इनके कारण प्राइवेट पार्ट के ph स्तर में असंतुलन हो जाता है जिसके कारण संक्रमण की समस्या हो सकती है।

दवाइयों का सेवन

जो महिलाएं बहुत अधिक मात्रा में एंटीबायोटिक दवाइयों का सेवन करती है, उन्हें भी वजाइनल इन्फेशन जैसी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

इन्हें भी पढ़ें :   Yoni me Jalan : योनि में जलन होने के कारण और उपचार

पीरियड्स में

मासिक धर्म के दौरान महिला को अपने प्राइवेट पार्ट की साफ सफाई के साथ पैड को भी समय पर बदलना चाहिए, यदि महिला ऐसा नहीं करती है तो बैड बैक्टेरिया बढ़ने लगता है। जिसके कारण पीरियड्स के दौरान बदबू आने के साथ वजाइना इन्फेक्शन होने के चांस भी बढ़ जाते हैं।

खूशबूदार प्रोडक्ट्स का अधिक इस्तेमाल

वजाइना की साफ़ सफाई के लिए ऐसे प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना चाहिए जिनसे की ph स्तर में कोई भी गड़बड़ी नहीं। लेकिन यदि आप ऐसे प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं जो बहुत अधिक खूशबूदार होते हैं, या फिर प्राइवेट पार्ट को सूट नहीं करते हैं, तो ऐसा करने से वजाइना में ph स्तर में असंतुलन होने लगता है जिसके कारण यह समस्या हो सकती है।

यौन संक्रमित रोग

यदि आपको कोई यौन संक्रमित रोग है, या आप किसी ऐसे व्यक्ति के साथ सेक्स करते हैं जिसको यह समस्या है। तो ऐसा करने के कारण आपको वजाइनल इन्फेक्शन के साथ यौन संक्रमित रोग होने का भी खतरा रहता है।

मूत्राशय में संक्रमण

अधिक मीठा खाने के कारण, मधुमेह रोग के कारण, इम्यून सिस्टम में गड़बड़ी या किसी और कारण की वजह से मूत्राशय में संक्रमण हो जाता है, जिसके कारण पेशाब के दौरान खुजली व् जलन के साथ बदबू जैसी समस्या भी हो सकती है। और इसके कारण वजाइनल इन्फेक्शन की समस्या होने के हंस भी बढ़ जाते हैं।

प्रेगनेंसी के दौरान

प्रेगनेंसी के दौरान बहुत से हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिनके कारण महिला का शरीर प्रभावित होता है। और इस दौरान किडनी भी अधिक सक्रिय रहती है जिसके कारण यूरिन इन्फेक्शन, वजाइनल इन्फेक्शन जैसी समस्या होना आम बात होती है।

टाइट अंडरवियर

जो महिलाएं टाइट अंडरवियर, सिंथेटिक कपडे की अंडरवियर पहनती है तो इसके कारण कपडा पसीना सोख नहीं पाता है और पसीना अधिक आने के कारण वजाइना में बेड बैक्टेरिया का जमाव होने लगता है जिसके कारण आपको वजाइना इन्फेशन जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

वजाइनल इन्फेशन से बचने के टिप्स

वजाइनल इन्फेक्शन की समस्या को महिला को ज्यादा नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए और यदि ज्यादा समस्या हो तो एक बार डॉक्टर से भी राय लेनी चाहिए। तो आइये आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताते हैं जिनका इस्तेमाल करने से आपको वजाइना में होने वाले इन्फेक्शन की समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है।

इन्हें भी पढ़ें :   सेक्स के बाद योनि में जलन, सूजन और फुंसी के घरेलू इलाज

एप्पल साइडर विनेगर

एक बड़ा चम्मच सेब के सिरके का दो कप गुनगुने पानी में डालें और अच्छे से प्राइवेट पार्ट को साफ़ करें। ऐसा दिन में दो से तीन बार करें, जब तक आपको पूरी तरह आराम न हो।

नारियल तेल

नारियल तेल भी स्किन को ठंडक पहुंचाने के साथ खुजली, जलन जैसी समस्या से राहत दिलाने में मदद करता है। इसके लिए आप दो से तीन बार नारियल के तेल को अच्छे से योनि में लगाएं इससे ph संतुलन बेहतर होगा जिससे आपको इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिलेगी।

दही

दही बेड बैक्टेरिया को खत्म करती है, और इसका इस्तेमाल भी आप वजाइना में होने वाले इन्फेक्शन से बचने के लिए कर सकते हैं। इसके लिए आप दही में रुई को भिगोकर थोड़ी देर के लिए प्राइवेट पार्ट में रखें और उसके बाद उसे निकालकर गुनगुने पानी से प्राइवेट पार्ट को साफ़ कर लें। ऐसा दिन में दो बार करें।

गेंदा

गेंदे के फूल में से से पत्तों को निकालकर पीस लें, उसके बाद उस पेस्ट को योनि में अच्छे से लगाएं। लगाने के बीस मिनट बाद गुनगुने पानी का इस्तेमाल करके उसे साफ कर लें। ऐसा नियमित दिन में एक बार करें जब तक की वजाइनल इन्फेक्शन पूरी तरह ठीक न हो जाए।

नीम

आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर नीम भी आपको इस परेशानी से निजात दिलाने में मदद करता है, इसके लिए आप नीम के पत्तों को पीस कर उसका लेप बनाएं या फिर नीम कके पत्तों को पानी में अच्छे से उबाल कर दिन में दो से तीन बार उससे योनि को साफ़ करे। ऐसा करने से बेड बैक्टेरिया खत्म होता है जिससे आपको इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिलती है।

एलोवेरा जैल

एलोवेरा जैल भी स्किन से जुडी हर समस्या का समाधान करने में आपकी मदद करता है, इसके लिए आप एलोवेरा जैल को थोड़ी देर प्राइवेट पार्ट में लगाकर छोड़ दें। और उसके बाद प्राइवेट पार्ट को गुनगुने पानी से साफ़ कर दें, ऐसा दिन में दो बार करें जब तक की इन्फेक्शन पूरी तरह से ठीक न हो जाए।

इन्हें भी पढ़ें :   सेक्स के दौरान योनि में सूखेपन के कारण और उपाय

टी ट्री ऑयल

टी ट्री ऑयल भी वजाइनल इन्फेक्शन से निजात पाने का एक असरदार नुस्खा है, इसके इस्तेमाल के लिए आप टी ट्री ऑयल को अच्छे से योनि में लगाएं और थोड़ी देर के लिए छोड़ दें। उसके बाद गुनगुने पानी का इस्तेमाल करके आप अच्छे से अपने प्राइवेट पार्ट को साफ़ करें, इस उपाय को वजाइनल इन्फेक्शन के पूरी तरह ठीक होने तक करें।

वजाइनल इन्फेक्शन से बचाव के अन्य टिप्स

  • ज्यादा खट्टे, मीठे, तेज मसाले वाले भोजन से परहेज करना चाहिए।
  • प्राइवेट पार्ट की साफ़ सफाई का खास ध्यान रखना चाहिए, और जब भी यूरिन पास करने जाएँ तो पानी से अच्छे से योनि को साफ करके सूखने के बाद अंडरवियर को पहनना चाहिए।
  • खून की कमी पूरा करने वाले आहार जैसे की गाजर, टमाटर, अनार आदि का भरपूर सेवन करना चाहिए।
  • प्रेगनेंसी में यदि ऐसी कोई समस्या है तो इसके लिए डॉक्टर से बात करनी चाहिए।
  • कॉटन का अंडरवियर ही पहनना चाहिए।
  • ज्यादा खूशबूदार प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल योनि के लिए नहीं करना चाहिए।
  • सेक्स करते समय सुरक्षा का इस्तेमाल करे यदि आपके पार्टनर को इन्फेशन या यौन संक्रमित रोग है, इसके आलावा पीरियड्स में सम्बन्ध बनाते समय भी आपको सुरक्षा का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • ज्यादा एंटीबायोटिक दवाइयों का सेवन नहीं करना चाहिए।

तो यह हैं कुछ खास टिप्स जिनका इस्तेमाल करके आप योनि में होने वाले संक्रमण की समस्या से आसानी से निजात पा सकते है। इसके अलावा यदि आपको परेशानी ज्यादा हो खुजली, जलन, दर्द अधिक हो तो शर्माना नहीं चाहिए बल्कि एक बार किसी स्त्री डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

Loading...

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!